भारत की सबसे पहली फिल्म कौनसी थी

वर्तमान में हर रोज कोई न कोई नयी फिल्म रिलीज़ होती रहती है लेकिन क्या आपको पता भारत की सबसे पहली फिल्म कौनसी थी? अगर आपको नहीं पता तो हमारी यह पोस्ट आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होने वाली है।

क्योकि इस पोस्ट में हम आपको भारत की पहली फिल्म से सम्बंधित पूरी जानकारी देने वाले है। फिल्म प्रोडक्शन के आधार पर भारतीय फिल्म इंडस्ट्री सबसे बड़ी फिल्म इंडस्ट्री में से एक है क्योकि भारत में कई भाषाओ के लोग रहते है और अलग अलग-भाषाओ में फिल्म बनाई जाती है।

वही अगर बात करे हिंदी भाषा की तो इसके अंतर्गत बनने वाली फिल्मो को बॉलीवुड इंडस्ट्री कहा जाता है और बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री का सबसे बड़ा केंद्र मुंबई को माना जाता है क्योकि यहाँ बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री के बहुत से प्रोडक्शन हाउस है। चलिए अब बात कर लेते है भारत की पहली फिल्म के बारे में।

भारत की सबसे पहली फिल्म कौन सी थी

वर्तमान में जो फिल्म हम देखते है वह रंगीन और अच्छी क्वालिटी की होती है लेकिन हमारी फिल्म इंडस्ट्री को बने लगभग 100 साल से भी ऊपर हो गए है और पहले जो फिल्म बनती थी वह इस तरह की बिलकुल नहीं होती थी लेकिन धीरे-धीरे आधुनिकता बढ़ती गयी और बहुत से उतार चड़ाव आते गए।

अगर बात करे भारत की सबसे पहली फिल्म की तो वह Raja Harishchandra (राजा हरिशचन्द्र) थी जिसे 1913 में दादा साहेब फाल्के द्वारा बनाया गया था और यह फिल्म मूक फिल्म थी यानि की इसे बिना आवाज के ब्लैक एंड वाइट फिल्म बनाया गया था।

यानि की अगर बात करे भारत की पहली मूक फिल्म कौन सी थी तो इसका जवाब Raja Harishchandra है यानि राजा हरिशचन्द्र ही भारत की पहली मूक फिल्म भी थी।

भारत की पहली फिल्म किसने बनाई

जैसा की हमने ऊपर बात की भारत की पहली फिल्म राजा हरिशचन्द्र को दादा साहेब फाल्के द्वारा बनाया गया था। दादा साहेब फाल्के का पूरा नाम Dhundiraj Govind Phalke था। इसका जन्म 30 अप्रैल 1870 में त्रिम्बक में हुआ था और 16 फरवरी 1944 को इनकी मृत्यु हो गयी थी।

दादा साहेब फाल्के प्रोडूसर होने के साथ साथ डायरेक्टर और स्क्रीनराइटर भी थे इन्होने अपने जीवनकाल में 95 फीचर फिल्म और 27 शार्ट मूवी बनाई थी और भारतीय सिनेमा में इनके बेमिसाल योगदान के लिए इन्हे भारतीय सिनेमा का पिता (Father of Indian Cinema) भी कहां जाता है।

वही अगर बात करे भारत की दूसरी फिल्म कौन सी थी या भारत की पहली बोलती फिल्म कौन सी थी तो आपको बता दे भारत की दूसरी फिल्म या पहली बोलती फिल्म आलम आरा थी जो 1931 में बनी थी। बात करे भारत की पहली बोलती फिल्म की नायिका कौन थी तो आपको बतादे Zubeida(जुबैदा) पहली बोलती फिल्म आलमआरा की नायिका थी और

वही अगर बात करे भारत की दूसरी फिल्म कौन सी थी या भारत की पहली बोलती फिल्म कौन सी थी तो आपको बता दे भारत की दूसरी फिल्म या पहली बोलती फिल्म आलमआरा थी जो 1931 में बनी थी। बात करे भारत की पहली बोलती फिल्म की नायिका कौन थी तो आपको बतादे Zubeida(जुबैदा) पहली बोलती फिल्म आलमआरा की नायिका थी और मास्टर विट्ठल और पृथ्वीराज कपूर ने नायक की भूमिका निभाई थी।

भारत की पहली रंगीन फिल्म कौन सी थी

भारत की पहली बोलती फिल्म 1937 में बनी किसान कन्या थी जोकि हिंदी भाषा में बनाई गयी थी और इस फिल्म की अवधि 137 मिनट थी और इस फिल्म के अभिनेता घानी, स्येद, अहमद, निसार, ग़ुलाम मोहम्मद, जिल्लो, पद्मदेवी थे।

किसान कन्या भारत की पहली स्वदेशी निर्मित रंगीन फिल्म थी और इस फिल्म के निर्माता अर्देशिर ईरानी थे और निर्देशक मोती बी॰ गिडवानी और लेखक सादत हसन मंटो थे।

भारत की पहली फीचर फिल्म किसने बनाई थी?

भारत की पहली फीचर फिल्म दादा साहेब फाल्के जी ने बनाई थी।

भारत में पहली फिल्म बनाने का श्रेय किसे जाता है?

भारत की पहली फिल्म राजा हरिशचन्द्र को बनाने का श्रेय दादा साहेब फाल्के जी को जाता है।

भारत की पहली 3D फिल्म कौन सी थी?

भारत की पहली 3D फिल्म माई डियर कुट्टीचातन है जोकि 24 अगस्त 1984 को रिलीज़ हुई थी।

तो दोस्तों आशा करते है आपको हमारी यह पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी और हमारे द्वारा इस पोस्ट में शेयर की गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी रही होगी।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट भारत की सबसे पहली फिल्म कौनसी थी पसंद आयी है तो इसे अपने सोशल मीडिया दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि उन्हें भी इस रोचक जानकारी के बारे में पता चल सके और साथ ही साथ अगर आपको इस पोस्ट से सम्बंधित किसी भी प्रकार का Doubts है तो हमे कमेंट करके जरूर बताये।

Related Articles :-

नमस्कार, दोस्तों मैं Techgyanhindi.com पर Content लिखता हूँ। आपको हमारा Content पसंद आ रहा हो तो Comment करके जरूर बताएं।

Leave a Comment