दुनियाँ का सबसे बड़ा धर्म कौनसा हैं | Top 5 सबसे बड़े धर्म

दोस्तों क्या आपको पता हैं दुनियाँ का सबसे बड़ा धर्म कौनसा हैं या पृथ्वी पर सबसे ज्यादा किस धर्म को मानने वाले लोग रहते हैं। शायद आपको इसके बारे में जानकारी नहीं होगी लेकिन आज की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको दुनियाँ के सबसे बड़े धर्म के बारे में विस्तार से जानकारी मिलेगी।

इसके साथ ही आप जिस धर्म का पालन करते हैं वह जनसँख्या के आधार पर कौनसे नंबर पर आता हैं तथा दुनिया के कुछ प्रमुख धर्मों के बारे में हम यहाँ पर जानने वाले हैं। वैसे देखा जाए तो इंसानियत की सबसे बड़ा धर्म हैं लेकिन दुनियाँ में कुल 200 देश हैं और सभी देशों को मिलाकर लगभग 8 बिलियन जनसँख्या हैं।

और सभी देशों में अलग-अलग धर्मों को मानने वाले लोग रहते हैं, वैसे देखा जाये तो सभी धर्म समान हैं, कोई भी धर्म छोटा या बड़ा नहीं होता हैं। लेकिन जिस धर्म को मानने वाले लोग ज्यादा होते हैं वही धर्म जनसँख्या के आधार पर बड़ा माना जाता हैं। तो चलिए सबसे पहले दुनियाँ के सबसे बड़े धर्म के बारे में जान लेते हैं।

दुनियाँ का सबसे बड़ा धर्म कौनसा हैं

दोस्तों क्या आपको पता हैं दुनियाँ में कुल कितने धर्म हैं? माना जाता हैं दुनियां में कुल 300 से भी ज्यादा धर्म हैं, लेकिन 75 प्रतिशत लोग सिर्फ इन पांच धर्मों का पालन करते हैं जो की बौद्ध धर्म, ईसाई धर्म, हिंदू धर्म, इस्लाम और सिख धर्म हैं। दोस्तों इससे आप समझ सकते हैं की दुनियाँ के अधिकतर देशों में यही पाँच धर्म मेजोरिटी में होंगे।

लेकिन आपके दिमाग में यह सवाल आ रहा होगा की वैसे तो यह पाँच धर्म सबसे बड़े हैं लेकिन इन पांचों में से सबसे बड़ा धर्म कौनसा हैं या किस धर्म के अनुयायि सबसे ज्यादा हैं तो हम यहाँ पर एक-एक करके सभी बड़े धर्मों के बारे में बताने वाले हैं।

1 ईसाई धर्म (Christian)

दोस्तों ईसाई (Christian) धर्म दुनियाँ का सबसे बड़ा धर्म हैं। दुनियाँ में कुल 2.2 बिलियन जनसँख्या द्वारा इस धर्म का पालन किया जाता हैं। जिसके अनुसार दुनियाँ की कुल आबादी में से 32% आबादी इस धर्म को मानती हैं। इस धर्म के लोग सबसे अधिक पश्चिमी देशों तथा यूरोप महाद्वीप में निवास करते हैं।

ईसाई धर्म इशू मसीह के उपदेशों पर आधारित हैं। और इनका धार्मिक ग्रन्थ बाइबल हैं और इनके धार्मिक स्थल को गिरजाघर कहा जाता हैं। ईसाईयों में मुख्यतः तीन संप्रदाय होते हैं कैथोलिक, प्रोटेस्टेंट और ऑर्थोडॉक्स

2. इस्लाम (मुस्लिम) धर्म

दुनियाँ में दूसरा सबसे बड़ा धर्म इस्लाम हैं, इस्लाम धर्म का पालन करने वाले लोगों की संख्या 1.6 बिलियन से भी ज्यादा हैं मतलब 160 करोड़ से भी ज्यादा हैं। दुनियां में कुल आबादी में से 23% आबादी इस्लाम धर्म के अनुयायि हैं। इस्लाम धर्म सांतवी शताब्दी में मक्का से शुरू हुआ तथा इस धर्म के जनक पैगम्बर मुहम्मद थे।

दुनियां के 49 देशों में मुस्लिम बहुसंख्यक हैं और कुल मुस्लिम आबादी की 73 प्रतिशत मुसलमान इन्हीं देशों में रहते हैं। मुस्लिम धर्म वर्तमान में दुनियाँ में सबसे तेजी से बढ़ने वाला धर्म हैं। यदि इस धर्म की जनसँख्या ऐसे ही बढ़ती रही तो 2050 तक मुस्लिम धर्म दुनियाँ का सबसे बड़ा धर्म बन जायेगा।

3. हिन्दू (सनातन) धर्म

दोस्तों हिन्दू धर्म दुनियाँ का तीसरा सबसे बड़ा धर्म हैं जिसे सनातन धर्म के नाम से भी जाना जाता हैं। हिन्दू धर्म के अनुयायी सबसे ज्यादा भारत, नेपाल और मॉरीशस में हैं। इस धर्म का पालन 1 अरब से भी ज्यादा लोगों द्वारा किया जाता हैं जो की दुनियाँ की कुल जनसँख्यां का 15 % होता हैं।

विश्व के कुल 200 देशों में से 53 देशों में हिन्दू धर्म के अनुयायी रहते हैं। हिन्दू धर्म को सबसे पुराना तथा महान धर्म माना जाता हैं क्योंकि इस धर्म को वैदिक सनातन वर्णाश्रम धर्म भी कहते हैं जिसका मतलब इस धर्म की उत्पति मानव की उत्पति से भी पहले हुई थी।

4. बौद्ध धर्म

दुनियाँ में सबसे बड़े धर्मों में बौद्ध धर्म चौथे नंबर पर आता हैं, विश्व में 50 करोड़ लोग बौद्ध धर्म के अनुयायी हैं जो की दुनिया की कुल जनसँख्या का 7% होता हैं। गौतम बुद्ध द्वारा बौद्ध धर्म की स्थापना की गई। वर्तमान में बौद्ध धर्म को भारत, नेपाल, चीन और जापान के अलावा कई अन्य देशों में भी माना जाता हैं।

5. सिख (धर्म)

सिख धर्म दुनियाँ में सबसे बड़े धर्मों में पाँचवे नंबर पर आता हैं जिसकी शुरुआत 15 वीं शताब्दी में गुरुनानक देव जी द्वारा की गई थी। दुनियाँ में कुल 2.3 करोड़ इस धर्म के अनुयायी हैं। भारत में सबसे ज्यादा पंजाब में सिख धर्म के लोग निवास करते हैं। भारत के अलावा सिख धर्म के लोग नेपाल, चीन तथा जापान में निवास करते हैं।

सिख धर्म में इनके धार्मिक स्थल को गुरुद्वारा कहा जाता हैं तथा सिखों के मुख्य रूप से तीन धार्मिक ग्रन्थ हैं श्री आदि ग्रन्थ साहिब, श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी तथा दसम ग्रन्थ हैं।

तो दोस्तों अब आपको दुनियाँ के पांच सबसे बड़े धर्म कौनसे हैं समझ में आ गया होगा तो चलिए अब हम इनसे जुड़े हुए कुछ महत्वपूर्ण सवालों के जवाब जान लेते हैं।

FAQs

दुनिया का सबसे बड़ा धर्म कौन सा है?

दुनियाँ का सबसे बड़ा धर्म ईसाई धर्म हैं जिसके पुरे विश्व में 2.2 बिलियन अनुयायी हैं और यह विश्व की कुल जनसँख्या का 32 फीसदी हैं।

एशिया का सबसे बड़ा धर्म कौन सा है?

एशिया का सबसे बड़ा धर्म इस्लाम हैं। एशिया की कुल आबादी में से 46.1% लोग इस्लाम धर्म का पालन करते हैं।

दुनियाँ में कुल कितने धर्म हैं?

दुनियां में कुल 300 से भी ज्यादा धर्म हैं।

सबसे पवित्र धर्म कौन सा है?

हिन्दू धर्म को दुनियाँ का सबसे पवित्र धर्म माना जाता हैं। हिन्दू धर्म का पालन करने वाली अधिकांश आबादी भारत, नेपाल तथा मॉरीशस में निवास करती हैं।

सबसे गंदा धर्म कौन सा है?

दोस्तों कोई भी धर्म अच्छा या बुरा नहीं होता हैं सभी धर्म समान होते हैं।

भारत का सबसे बड़ा धर्म कौनसा हैं?

दोस्तों भारत का सबसे बड़ा धर्म हिन्दू धर्म हैं और भारत की कुल आबादी में से 80% आबादी हिन्दुओं की हैं।

दुनियाँ का दूसरा सबसे बड़ा धर्म कौनसा हैं?

दुनियाँ का दूसरा सबसे बड़ा धर्म इस्लाम हैं।

दुनियाँ का सबसे प्राचीन धर्म कौनसा हैं?

दुनियाँ का सबसे प्राचीन धर्म हिन्दू धर्म या सनातन धर्म हैं। हिन्दू धर्म के अनुयायियों की जनसँख्या 1 अरब से भी ज्यादा हैं और सबसे ज्यादा हिन्दू धर्म के लोग भारत में निवास करते हैं।

Conclusion

दोस्तों उम्मीद करता हूँ दुनियाँ का सबसे बड़ा धर्म कौनसा हैं या विश्व का सबसे बड़ा धर्म कौनसा हैं के बारे में आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा लेकिन फिर भी आपके मन में किसी भी धर्म को लेकर कोई सवाल हैं तो हमें कमेंट करके जरूर बताये। और जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें जिससे वे भी दुनियाँ के सबसे बड़े धर्म के बारे में जान सके।

Read More Articles:-
भारत में सबसे पहले सूर्योदय कहाँ होता हैं
विश्व में सबसे पहले सूर्योदय कहाँ होता हैं
साल का सबसे बड़ा दिन कौनसा होता हैं
सिम कार्ड का एक कोना कटा हुआ क्यों होता हैं
पोस्ट को शेयर करें

मेरा नाम Ram Gadri है। मैं इस Blog का Founder और Content writer हूँ। हमारा इस Blog को बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषी लोगों को इंटरनेट से जुड़ी जानकारी प्रदान करवाना है। यहाँ आपको शिक्षा, तकनिकी, कंप्यूटर और मेक मनी से जुड़ी हर तरह की जानकारी अपनी मातृ भाषा में मिलने वाली है।

Leave a Comment