2024 में नया अपडेट iPhone यूजर्स भी कर सकते हैं को-पायलट ऐप का इस्तेमाल: iOS यूजर्स के लिए माइक्रोसॉफ्ट का AI ऐप लॉन्च, GPT-4 मॉडल का मिलेगा फ्री एक्सेस

iphone users will also be able to use co pilot app : टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने Apple के iOS यूजर्स के लिए नया को-पायलट ऐप लॉन्च किया है। यानी iPhone और iPad यूजर्स इस ऐप का इस्तेमाल कर सकते हैं।

कंपनी ने हाल ही में इन्हें एंड्रॉइड यूजर्स के लिए पेश किया है।अब यह नया ऐप ऐप्पल के ऐप स्टोर पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध है। केवल वे उपयोगकर्ता जो अपने डिवाइस iOS 15, iPadOS 15 या बाद के ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) पर चला रहे हैं, वे ही Copilot ऐप का उपयोग कर पाएंगे।

यह ऐप सर्च इंजन बिंग से अलग है

इस ऐप के जरिए यूजर्स अपने AI चैटबॉट को एक नई सर्विस के तौर पर इस्तेमाल कर पाएंगे। यह ऐप सर्च इंजन बिंग से अलग है और पूरी तरह से माइक्रोसॉफ्ट की AI तकनीक पर आधारित है। माइक्रोसॉफ्ट ने कुछ महीने पहले ‘बिंग चैट’ का नाम बदलकर ‘को-पायलट’ कर दिया था।

iphone users will also be able to use co pilot app
iphone users will also be able to use co pilot app

प्रारंभ में, Microsoft का AI बिंग सर्च इंजन का हिस्सा था, जिसका खोज परिणाम इंटरफ़ेस चैट-जीपीटी जैसा दिखता था। यह सुविधा अभी भी उपलब्ध है, लेकिन माइक्रोसॉफ्ट को-पायलट को एक अलग प्लेटफॉर्म के रूप में प्रचारित कर रहा है।

iPhone यूजर्स भी कर सकते हैं को-पायलट ऐप का इस्तेमाल: iOS यूजर्स के लिए माइक्रोसॉफ्ट का AI ऐप लॉन्च, GPT-4 मॉडल का मिलेगा फ्री

टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने Apple के iOS यूजर्स के लिए नया को-पायलट ऐप लॉन्च किया है। यानी iPhone और iPad यूजर्स इस ऐप का इस्तेमाल कर सकते हैं। कंपनी ने हाल ही में इन्हें एंड्रॉइड यूजर्स के लिए पेश किया है।

अब यह नया ऐप ऐप्पल के ऐप स्टोर पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध है। केवल वे उपयोगकर्ता जो अपने डिवाइस iOS 15, iPadOS 15 या बाद के ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) पर चला रहे हैं, वे ही Copilot ऐप का उपयोग कर पाएंगे।

यह ऐप सर्च इंजन बिंग से अलग है

इस ऐप के जरिए यूजर्स अपने AI चैटबॉट को एक नई सर्विस के तौर पर इस्तेमाल कर पाएंगे। यह ऐप सर्च इंजन बिंग से अलग है और पूरी तरह से माइक्रोसॉफ्ट की AI तकनीक पर आधारित है। माइक्रोसॉफ्ट ने कुछ महीने पहले ‘बिंग चैट’ का नाम बदलकर ‘को-पायलट’ कर दिया था।

प्रारंभ में, Microsoft का AI बिंग सर्च इंजन का हिस्सा था, जिसका खोज परिणाम इंटरफ़ेस चैट-जीपीटी जैसा दिखता था। यह सुविधा अभी भी उपलब्ध है, लेकिन माइक्रोसॉफ्ट को-पायलट को एक अलग प्लेटफॉर्म के रूप में प्रचारित कर रहा है।

माइक्रोसॉफ्ट को-पायलट क्या करता है?

कार्यक्षमता की बात करें तो इस माइक्रोसॉफ्ट को-पायलट में चैट-जीपीटी जैसी ही सुविधाएं हैं…

यह OpenAI के नवीनतम GPT-4 मॉडल तक निःशुल्क पहुंच की अनुमति देता है।

यह ऐप आपको चैटबॉट के साथ बातचीत करने की अनुमति देता है।

DELL-E3 के साथ यह चित्र बनाने के साथ-साथ ईमेल लिखने और दस्तावेज़ बनाने में भी मदद करता है।

इस माइक्रोसॉफ्ट असिस्टेंट में वॉयस इनपुट देने का विकल्प भी उपलब्ध है।

आइटम खोजने या उन तक पहुंचने के लिए छवि और टेक्स्ट इनपुट विकल्प भी ऐप में उपलब्ध हैं।

गूगल प्ले स्टोर पर 5 हजार से ज्यादा डाउनलोड

नया को-पायलट ऐप गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध है और इसे 5 हजार से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं। फिलहाल इसका iOS वर्जन उपलब्ध नहीं है, लेकिन कंपनी के मुताबिक यह जल्द ही उपलब्ध होगा। तब तक iOS यूजर्स बिंग ऐप पर को-पायलट फीचर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

चैटजीपीटी फिलहाल सबसे आगे है

एआई की दुनिया में माइक्रोसॉफ्ट के बड़े निवेश वाली कंपनी ओपनएआई की चैटजीपीटी इस वक्त सबसे आगे है। ChatGPT को पिछले साल 30 नवंबर को लॉन्च किया गया था और एक महीने के भीतर 100 मिलियन उपयोगकर्ताओं को पार कर गया। Google का चैटबॉट बार्ड LaMDA के लार्ज लैंग्वेज मॉडल पर आधारित है।

Leave a Comment