IPS का फुल फॉर्म क्या होता है और IPS कैसे बने~ 2021

इस पोस्ट में हम बात करने वाले है IPS का फुल फॉर्म क्या होता है और आईपीएस कैसे बन सकते है योग्यता और सैलरी की पूरी जानकारी विस्तार से।

IPS जोकि एक सम्मानजनक नौकरी होती है और बहुत से विद्यार्थियों का सपना भी होता है की वह IPS Officer बने लेकिन क्योकि उन्हें इसकी पूरी जानकारी नहीं होती है और इस कारण बहुत से विद्यार्थियों का यह मात्र सपना रह जाता है।

इसी कारण इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको IPS बनने के लिए योग्यता, सिलेबस और एग्जाम की पूरी जानकारी देने वाले है जिससे आप सही तरीके से इसकी तैयारी कर सके और IPS Officer बन सके। तो चलिए जानकारी शुरू से जानने की कोशिश करते हैं।

IPS क्या होता है

IPS का फुल फॉर्म क्या होता है
IPS कैसे बने
IPS की सैलरी कितनी होती है
IPS full form in Hindi
IPS full form in English
IPS का फुल फॉर्म क्या होता है

IPS पुलिस प्रशासन का एक उच्च रैंक का प्रतिष्ठित और सम्मानजनक पद होता है जिसे पाने के लिए आपको UPSC द्वारा कराई जाने वाली सिविल सर्विसेस की परीक्षा पास करनी होती है जोकि हर साल आयोजित करवाई जाती है।

यह बहुत ही कठिन परीक्षा होती है जिसे क्लियर करने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी होती है और जब आप एग्जाम क्लियर कर देते है तो उसके बाद आपको इंटरव्यू भी क्लियर करना होता है और इंटरव्यू में पास होने के बाद आपको ट्रेनिंग पूरी करनी होती है उसके बाद आप IPS Officer बन सकते है।

UPSC Full Form in Hindi - UPSC का हिंदी में फुल फॉर्म या पूरा नाम संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission) होता है। 

IPS बनने का दूसरा तरीका होता है स्टेट PSC यानि की आप स्टेट PSC का एग्जाम क्लियर करके भी आईपीएस अफसर बन सकते है लेकिन PSC एग्जाम पास करने के बाद आपको SP बनने के लिए कम से कम 10 साल तक का समय लग जाता है।

PSC full form in Hindi - PSC का पूरा नाम लोक सेवा आयोग (Public Service Commission) होता है। 

आशा है अब आपको अच्छे से पता चल गया होगा की IPS या Indian Police Service क्या होता है।

IPS का फुल फॉर्म क्या होता है

IPS का फुल फॉर्म होता है India Police Service और हिंदी में IPS का पूरा नाम भारतीय पुलिस सेवा होता है और पुलिस प्रशासन का काम समाज में क़ानूनी व्यवस्था को बनाये रखना और अपराधों का निपटारा करना होता है।

IPS full form in Hindi - आईपीएस मीनिंग इन हिंदी या IPS का हिंदी में पूरा नाम भारतीय पुलिस सेवा होता है। 
IPS full form in English - Indian Police Service is full form of IPS. 

तो अब आपको IPS का पूरा नाम पता चल गया होगा चलिए अब हम आईपीएस कैसे बनें और एक आईपीएस के कार्य क्या होते हैं जान लेते हैं।

IPS कैसे बने (How to become IPS Officer)

अब हम बात करेंगे की आईपीएस अफसर कैसे बने लेकिन पहले हम आईपीएस अफसर बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए उसके बारे में जान लेते है क्योकि अगर आप उस योग्यता के है तभी आप आईपीएस अफसर बन सकते है।

IPS बनने के लिए योग्यता

आईपीएस अफसर बनने के लिए कुछ शारीरिक, शैक्षिक योग्यता होनी चाहिए जो कुछ इस प्रकार है।

शारीरिक योग्यता

लम्बाई – आईपीएस बनने के लिए पुरुषो (जनरल/OBC) की लम्बाई कम से कम 165cm और महिलाओ (जनरलOBC) की लम्बाई कम से कम 150cm होनी चाहिए। SC/ST वर्ग के पुरुषो और महिलाओ को लम्बाई में क्रमशः 5cm की छूट मिलती है।

चेस्ट(छाती) – आईपीएस अफसर बनने के लिए पुरुषो की छाती कम से कम 84cm और महिलाओ के लिए कम से कम 79cm होनी चाहिए।

Eye Sight (नजर) – पुरुषों और महिलाओ दोनों के लिए दूर द्रष्टि 6/6 या 6/9 दूर द्रष्टि और कमजोर आँखों का विजन 6/12 और 6/9 होना चाहिए।

आयु सीमा – आईपीएस के लिए आयु सीमा 21वर्ष से 32 वर्ष होनी चाहिए। इसमें OBC वर्ग को 3 साल की छूट और SC/ST वर्ग को 5 साल की छूट होती है।

शैक्षणिक योग्यता

आईपीएस अफसर बनने के लिए आप किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन पास होने चाहिए। अगर आप ग्रेजुएशन के आखिरी साल में है तब भी आप इस एग्जाम में हिस्सा ले सकते है।

राष्ट्रीयता – आईपीएस बनने के लिए आपका एक भारतीय नागरिक होना जरुरी हैं।

प्रयासों की संख्या – आईपीएस अफसर बनने के लिए प्रयासों की अधिकतम सीमा निम्न वर्गों के लिए इस प्रकार है।

  • General – सामान्य वर्ग के लिए प्रयासों की संख्या 6 बार ( 32 वर्ष की आयु होने तक)
  • OBC – अधिकतम 9 बार ( 35 वर्ष की आयु होने तक)
  • SC/ST – अधिकतम प्रयास 37 वर्ष की आयु होने तक कोई सीमा नहीं।
  • शारीरिक दक्षता वर्ग में General के लिए 9 प्रयास और OBC/SC/ST के लिए कोई सीमा नहीं है।

इस प्रकार आपको एक IPS Officer बनने के लिए योग्यता का अच्छे से पता चल गया होगा और अगर आपमें भी यह सभी योग्यता है तो आप भी एक आईपीएस ऑफिसर बनने की कोशिश कर सकते है।

IPS कैसे बने : IPS बनने के लिए एग्जाम प्रक्रिया

IPS बनने के लिए आपको सिविल सर्विसेस का एग्जाम देना होता है जोकि UPSC (संघ लोग सेवा आयोग) द्वारा आयोजित करवाया जाता है।

यह एग्जाम तीन चरणों प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार या पर्सनालिटी टेस्ट के रूप में होता है तो चलिए जानते है तीनो चरणों के बारे में विस्तार से।

1 Preliminary Exam (प्रारंभिक परीक्षा)

एक आईपीएस अफसर बनने के लिए यह परीक्षा का पहला चरण होता है और इस परीक्षा को पास करने के बाद ही आप अगली मुख्य परीक्षा में भाग ले सकते है।

यह परीक्षा भी दो भागो सामान्य अध्ययन (GS-1) और CSAT (GS-2) में होती है। इस परीक्षा में ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाते है और दोनों ही परीक्षा 200-200 मार्क्स की होती है और दोनों परीक्षा की अवधि 2-2 घंटे की होती है।

इस परीक्षा के नंबर आपके फाइनल एग्जाम में नहीं जुड़ते है लेकिन फिर भी इस परीक्षा को पास करने के लिए आपको 2nd पेपर में 33% मार्क्स लाने होते है।

2 Main Exam (मुख्य परीक्षा)

यह दूसरे चरण की परीक्षा होती है जिसमे कुल 9 पेपर होते है और इस परीक्षा को भी दो भागो में विभाजित किया गया है।

Qualifying Paper – इसमें 2 पेपर होते है और दोनों 300-300 मार्क्स के होते है लेकिन यह केवल Qualifying परीक्षा होती इसके मार्क्स आपके फाइनल मार्क्स में नहीं जुड़ते है।

Merit Paper – इसमें कुल 7 पेपर होते है और प्रत्येक पेपर 250 मार्क्स का होता है।

3 Interview (साक्षात्कार)

यह परीक्षा का तीसरा और अंतिम चरण होता है। मुख्य परीक्षा पास करने के बाद आपको साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है जोकि लगभग 40 से 45 मिनट का होता है। इसे पर्सनालिटी टेस्ट भी कहा जाता है। साक्षात्कार में पास होने के बाद आपको 3 साल की ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है और ट्रेनिंग पूरी होने के बाद आप IPS Officer बन जाते है।

IPS के लिए सिलेबस की जानकारी

जैसा की हमने ऊपर बात की आईपीएस की परीक्षा तीन चरणों में होती है।

  1. प्रारंभिक परीक्षा(2 पेपर)
  2. मुख्य परीक्षा(9 पेपर)
  3. साक्षात्कार

1 प्रारंभिक परीक्षा का सिलेबस

प्रारंभिक परीक्षा में आपको 2 पेपर देने होते है तो चलिए जानते है दोनों पेपर का सिलेबस

पेपर 1 – इस पेपर में आपको राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय, समसामयिक विषय, भारतीय इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन, भारतीय राज तंत्र और गवर्नेस, भारत और विश्व का भूगोल, आर्थिक और सामाजिक विकास,बायो डाइवर्सिटी और जनरल साइंस जैसे विषयो से ऑब्जेक्टिव सवाल पूछे जाते है।

पेपर 2 – इस पेपर में आपको पर्सनल स्किल, लॉजिकल रीज़निंग और एनालिटिकल एबिलिटी, प्रॉब्लम सॉल्विंग, मेन्टल एबिलिटी और बेसिक न्यूमरेसी से सम्बंधित सवाल पूछे जाते है।

2 मुख्य परीक्षा का सिलेबस

यह परीक्षा भी दो भागो में आयोजित होती है जिसमे कुल 9 पेपर होते है तो चलिए जानते है इनके सिलेबस के बारे में।

भाग 1 – Qualifying Papers

पेपर 1 – Modern Indian Language (300 मार्क्स) – इस पेपर में आपको संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल एक भाषा का चुनाव करना होगा।

पेपर 2 – इंग्लिश(300 मार्क्स) – इस पेपर में आपको इंग्लिश भाषा में पैसेज राइटिंग और निबंध तथा ट्रांसलेशन आदि सवाल पूछे जाते है।

भाग 2 – Merit Base Paper

इस भाग में कुल 7 पेपर होते है और प्रत्येक पेपर 250 मार्क्स का होता है और इनसे ही आपकी मेरिट बनती है।

  • 1st पेपर – निबंध लेखन।
  • 2nd पेपर – सामान्य अध्ययन -1
  • 3rd पेपर – सामान्य अध्ययन -2
  • 4th पेपर – सामान्य अध्ययन -3
  • 5th पेपर – सामान्य अध्ययन -4
  • 6th & 7th पेपर – ऑब्जेक्टिव सब्जेक्ट।

इस प्रकार एक आईपीएस अधिकारी बनने के लिए आपको इन सभी पेपर की तैयारी करनी होती है और परीक्षा के तीसरे चरण साक्षात्कार में आपका कोई लिखित पेपर नहीं होता है बल्कि वह एक मौखिक परीक्षा होती है।

IPS का क्या कार्य होता है

दोस्तों अब तक आप आईपीएस कैसे बनें और परीक्षा पैटर्न के बारे में तो जान गए होंगे, अब हम एक आईपीएस अफसर के कुछ मुख्य कार्य क्या होते है उनके बारे में जान लेते हैं।

  • राज्य/केंद्र में कानून व्यवस्था को बनाये रखना।
  • अपराधिक मामलो की तहकीकात करना और उन्हें रोकना।
  • मानव अधिकारों की रक्षा करना।
  • शांति और सदभाव बनाये रखना।
  • आतंकी गतिविधियों का पता लगाना।
  • लोगो का पुलिस के प्रति विश्वास बनाये रखना।
  • नशीले प्रदार्थो की तस्करी पर रोक लगाना।

इस प्रकार एक आईपीएस अधिकारी के और भी कई सारे काम होते है जिनका उन्हे अधिकार होता है।

IPS की सैलरी कितनी होती है

अब आपके मन में भी यह सवाल आ रहा होगा की IPS जैसी उच्च पोस्ट वाले अधिकारी की सैलरी कितनी होगी या IPS की सैलरी कितनी होगी तो आपको बता दे सभी IPS Officers की सैलरी बराबर नहीं होती है। IPS के अलग-अलग रैंक और पद के अनुसार और उनके अनुभव के आधार पर उनकी सैलरी अलग अलग होती है।

जैसे अगर कोई नई नई भर्ती से IPS बना है तो उसकी शुरूआती सैलरी लगभग 65 हजार से 70 हजार महीना होती है वही SP, ASP और ACP की सैलरी लगभग 1 लाख तक होती है वही IG, DIG और DGP लेवल तक की सैलरी 2 लाख महीना तक होती है।

IAS और IPS में क्या अंतर है

बहुत से लोग आईएएस और आईपीएस के मध्य अंतर को नहीं समझ पाते है और वह कंफ्यूज रहते है उन्हें किस पोस्ट के लिए तैयारी करनी है तो यहाँ हम आपको आईपीएस और आईएएस के मध्य कुछ अंतर के बारे में चर्चा करेंगे।

IAS और IPS में अंतर

S. No.IAS OfficesIPS Officer
1इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसइंडियन पुलिस सर्विस
2यह अधिकारी संसद में बने कानून को राज्य में लागु करता है।यह अधिकारी राज्य की क़ानूनी व्यवस्था को बनाये रखता है और अपराधों की रोकथाम करता है।
3IAS का कोई ड्रेस कोड नहीं होता है।IPS को हमेशा ड्यूटी के समय पुलिस वर्दी में होना होता है।
4आईएएस के साथ 3 से 4 अंगरक्षक होते हैआईपीएस के साथ हमेशा पूरी फाॅर्स होती है।
IPS और IAS में अंतर

इस प्रकार अब आपको आईएएस और आईपीएस के अंतर के बारे में जानकारी मिल गयी होगी और अब आपके सारे कंफ्यूज दूर हो गए होंगे। और आशा है आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आयी होगी और हमारे द्वारा शेयर की गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित हुई होगी।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट IPS का फुल फॉर्म क्या होता है और IPS कैसे बने पसंद आयी है तो इसे अपने और भी दोस्तों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर जरूर करे और अगर आपको हमारी इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी Doubts है तो कमेंट करके जरूर बताये। जिससे हम आपकी समस्या का समाधान कर सके।

Related Articles:-

नमस्कार, दोस्तों मैं Techgyanhindi.com पर Content लिखता हूँ। आपको हमारा Content पसंद आ रहा हो तो Comment करके जरूर बताएं।

Leave a Comment