Thermometer का आविष्कार किसने किया और कब हुआ

नमस्कार दोस्तों कैसे हो आप आशा है आप सभी अच्छे ही होंगे। आज की हमारी इस पोस्ट में हम जानने वाले है Thermometer का आविष्कार किसने किया और इसका आविष्कार कब किया से सम्बंधित पूरी जानकारी विस्तार से।

थर्मामीटर के बारे में तो आपने जरूर सुन रखा होगा या आपने देखा हुआ भी होगा। जब भी हमे बुखार आ जाता है तो थर्मामीटर की मदद से ही चेक किया जाता है।

मुख्यतः थर्मामीटर का इस्तेमाल तापमान मापने के लिए किया जाता है। यह एक काँच का ट्यूब जैसा उपकरण होता है जिसके अंदर पारा या अन्य कुछ द्रव भरा हुआ होता है।

इस उपकरण से हमारे शरीर का तापमान मापा जा सकता है जिससे हमे पता चल सके की हमे कितना बुखार चढ़ा है और हमारे शरीर का तापमान कितना है तो इस प्रकार यह एक बहुत ही उपयोगी उपकरण है।

लेकिन क्या आपको पता है थर्मामीटर का आविष्कारक कौन है या थर्मामीटर की खोज किसने की? अगर आपको इसकी जानकारी नहीं है तो इस पोस्ट में आपको इसकी पूरी जानकारी मिलने वाली है इसलिए पोस्ट को अंत तक ध्यानपूर्वक पूरा जरूर पढ़े।

Thermometer क्या होता है

Thermometer का आविष्कार किसने किया

अगर आपको नहीं पता है की Thermometer क्या है तो आपको बता दे तापमान मापने का सबसे सामान्य उपकरण थर्मामीटर होता है। यह काँच की ट्यूब का बना हुआ एक उपकरण होता है।

थर्मामीटर के अंदर मुख्यतः पारा या अन्य द्रव भरा रहता है और इसकी मदद से तापमान को मापा जा सकता है। आपने अक्सर डॉक्टर को थर्मामीटर की मदद से बुखार चेक करते देखा होगा। चलिए अब जानते है थर्मामीटर का आविष्कार कब और किसने किया था?(Who Invented Thermometer?)

Thermometer का आविष्कार किसने किया

थर्मामीटर के आविष्कार की शुरुआत थर्मोस्कोप से हुई थी थर्मोस्कोप का आविष्कार सन 1593 में  गैलिनोयो गैलीली नाम के वैज्ञानिक ने किया था। यह उपकरण मनुष्य के तापमान को नहीं दर्शाता था। यह केवल वस्तुओं के बीच के तापमान अंतर को दर्शाता था।

उसके बाद धीरे धीरे इसमें बदलाव होने लगे और सन 1612 में इतावली अविष्कारक सेंटोरियो द्वारा सबसे पहले थर्मोस्कोप पर एक संख्यात्मन पैमाना लगाया गया और इसे तापमान मापने के योग्य बनाया।

थर्मोस्कोप को किसी भी व्यक्ति के मुँह में रखकर तापमान का पता लगाया जाता था लेकिन यह सही सटीक आंकड़े दर्शाने में कमजोर साबित हुआ यानि की गैलिनोयो गैलीली और सेंटोरियो दोनों द्वारा बनाये गए थर्मोस्कोप में कुछ न कुछ कमियां रह गयी थी।

उसके बाद सन 1641 में टास्कनी के ग्रैंड ड्यूक, फर्डिनेंड नाम के एक और वैज्ञानिक आये जिन्होंने एक बंद ग्लास थर्मामीटर का आविष्कार किया जो अंदर से तरल प्रदार्थ से भरा हुआ था। इन्होने अपने इस थर्मामीटर में अल्कोहल भरा था लेकिन यह भी मनुष्य का तापमान मापने में असमर्थ था।

लेकिन इस खोज को थर्मामीटर की खोज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है। इसके बाद सन 1714 में पहली बार Daniel Gabriel Fahrenheit द्वारा थर्मामीटर में पारा का इस्तेमाल किया गया था।

इस थर्मामीटर को आधुनिक थर्मोमीटर का पूर्ववती भी कहा जा सकता है क्योकि वर्तमान में उपलब्ध अधिकतर थर्मामीटर में पारा का ही इस्तेमाल किया जाता है।

उसके बाद सन 1867 में थॉमस अल्बर्ट द्वारा पहला व्यावहारिक थर्मामीटर बनाया गया जिसका इस्तेमाल किसी भी व्यक्ति का तापमान मापने के लिए किया जा सके।

इस प्रकार थर्मामीटर के आविष्कार में अलग अलग समय में अलग अलग वैज्ञानिको या आविष्कारकों का योगदान रहा है और तब जाकर आज हमे वर्तमान में आधुनिक थर्मामीटर प्राप्त हुआ है जो हमे बिलकुल सटीक जानकारी प्रदान करता है।

थर्मामीटर के कितने प्रकार होते है

थर्मामीटर मुख्यतः दो प्रकार के होते है।

  1. Analog Thermometer
  2. Digital Thermometer

1 Analog Thermometer क्या है

Analog Thermometer एक साधारण थर्मामीटर होता है जो कांच की Tube से बना हुआ होता है और इसके अंदर पारा भरा हुआ होता है।

इस थर्मामीटर का इस्तेमाल जब तापमान चेक करने के लिए किया जाता है तो जब किसी व्यक्ति का तापमान ज्यादा होता है तो पारा ऊपर की तरफ चढ़ता है और कम होता है तो निचे आता है।

Tube पर डिग्री सेल्सियस में मान अंकित रहता है जिससे आपको पता चल जाता है की तापमान कितना बढ़ा है कम हुआ है लेकिन वर्तमान में इसका इस्तेमाल केवल अधिक तेज बुखार हो तभी किया जाता है।

इस थर्मामीटर के नुकसान यह है की यह कांच का बना हुआ होता है जो कभी भी टूट सकता है और चुकी पारा थोड़ा विषैला भी होता है तो अगर यह हमारे मुँह में टूट जाता है तो हमारी जान भी जा सकती है।

2 Digital Thermometer क्या है

जैसा की नाम से ही पता चल रहा है यह पूरी तरह से डिजिटल थर्मामीटर होता है जिसमे रीडिंग भी Digital ही बताई जाती है।

जिस प्रकार हमारे पास दो तरह की घडिया होती है पहली एनालॉग जिसमे कांटे लगे होते है और दूसरी डिजिटल जिसमे Digitally Time बताया जाता है की इतना बजा हुआ है।

उसी प्रकार Digital Thermometer में भी Digital तापमान बताया जाता है की तापमान कितना डिग्री सेल्सियस या फॉरेनहाइट है।

वर्तमान में अधिकतर डिजिटल थर्मोमीटर का ही इस्तेमाल किया जाता है फिर चाहे कोई मेडिकल क्लिनिक हो या हॉस्पिटल। बहुत से लोग घर पर भी तापमान नापने के लिए Digital Thermometer का इस्तेमाल करते है।

क्योकि इसका इस्तेमाल करना बहुत ही आसान होता है और चुकी यह प्लास्टिक से बना हुआ होता है तो इसके टूटने का भी खतरा नहीं रहता है और इसका इस्तेमाल करना भी आसान होता है। चलिए अब जानते है इसका उपयोग कैसे किया जाता है?

थर्मामीटर का उपयोग कैसे करे

Thermometer का इस्तेमाल आप अपने घर पर भी कर सकते है इसलिए आपको पता होना चाहिए की इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है।

Thermometer का उपयोग करना बहुत ही आसान होता है। आपको सबसे पहले थर्मामीटर के On के Button को प्रेस करके थर्मामीटर को On कर देना है उसके बाद आपको थर्मामीटर को अपने मुँह के अंदर जीभ के निचे रखना है और मुँह बंद कर देना है।

आपको अपने मुँह को तब तक बंद रखना है जब तक थर्मामीटर से आवाज नहीं आ जाए और जब थर्मामीटर सही तापमान माप लेगा तो एक आवाज आएगी उसके बाद आप थर्मामीटर को अपने मुँह से निकाल कर तापमान चेक कर सकते है।

आप अपने मुँह के अलावा अपने बगल के नीचे और गुदे की सहायता से भी तापमान चेक कर सकते है और अपने शरीर के तापमान का पता लगा सकते है।

क्या थर्मामीटर से खतरा हो सकता है

दोस्तों अगर आप जानना चाहते है की थर्मामीटर से खतरा होता है या नहीं तो आपको बता दे इससे निम्लिखित प्रकार का खतरा हो सकता है।

  • Thermometer के अंदर पारा भरा होता है जो की विषैला होता है।
  • अगर यह पारा मनुष्य के शरीर में चला जाता है तो उसकी जान भी जा सकती है।
  • इसलिए थर्मामीटर का इस्तेमाल सावधानी से करना चाहिए और इसे बच्चो की पहुँच से दूर रखना चाहिए।
  • थर्मामीटर को इस्तेमाल करने से पहले अच्छे से साफ़ कर लेना चाहिए।
  • थर्मामीटर खरीदने से पहले उसे अच्छी तरह से देखकर खरीदना चाहिए कही वह टुटा हुआ तो नहीं है।

इस प्रकार आप थर्मामीटर का उपयोग करते समय उपरोक्त बिंदुओं को ध्यान में रख सकते है।

FAQs

Thermometer की कीमत कितनी होती है?

Thermometer की कीमत उसकी बनावट और Quality के अनुसार अलग अलग हो सकती है। जैसे Dr Trust (USA) Waterproof Thermometer की कीमत भारत में लगभग 150 रूपए के करीब है।

थर्मामीटर को कहा से खरीद सकते है?

थर्मामीटर को आप किसी भी मेडिकल की दुकान से खरीद सकते है और आप इसका इस्तेमाल सावधानीपूर्वक घर पर भी कर सकते है।

क्या थर्मामीटर खतरनाक हो सकता है?

हां, लेकिन तब जब आप इसका सही से इस्तेमाल नहीं करते है। क्योकि थर्मामीटर के अंदर पारा होता है जोकि विषैला होता है और अगर यह किसी व्यक्ति के शरीर में चला जाता है तो उस व्यकित की जान जाने का खतरा भी रहता हैं।

Conclusion –

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट Thermometer का आविष्कार किसने किया जरूर पसंद आयी होगी और इस पोस्ट में साझा की गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी रही होगी।

अगर आपको हमारी इस पोस्ट से सम्बंधित किसी भी प्रकार का कोई Doubts है तो आप हमे कमेंट के माध्यम से बता सकते है।

Related Articles:-

पोस्ट को शेयर करें

Lucky, Techgyanhindi.com के Content Writer हैं। इन्हें लोगों को नयी नयी जानकारी पहुँचाने में बहुत ख़ुशी मिलती है। वहीँ ये ऐसे content लिखना पसंद करते हैं जिन्हें की लोग पसदं करें और वो उनके लिए उपयोगी हो।

Leave a Comment