Train का अविष्कार किसने किया और कब किया

इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले हैं Train का अविष्कार किसने किया और कब किया था और साथ ही साथ Train से सम्बंधित और भी बहुत कुछ इंटरेस्टिंग जानकारी।

दोस्तों Trains यानि की रेल के बारे में आप सभी जानते होंगे और आप सभी ने Train को अच्छे से देखा हुआ भी होगा और बहुत बार सफर भी किया होगा।

लेकिन क्या आपको पता हैं आज हम जिस ट्रैन में सफर करते हैं उस ट्रैन का अविष्कार किसने किया या कैसे हुआ था? अब हो सकता हैं आपमें से बहुत से लोगो को इसके बारे में थोड़ी बहुत जानकारी पहले से हो लेकिन

ज्यादातर लोगो को इस विषय में जानकारी नहीं होगी और इसीलिए तो आप जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी इस पोस्ट पर आये हैं तो में वादा करता हु इस पोस्ट से जाने से पहले आपको इस विषय सम्बंधित पूरी जानकारी जरूर प्राप्त होगी।

इसलिए आपको इस पोस्ट को अच्छे से ध्यानपूर्वक और शुरू से अंत तक पूरा पढ़ना हैं जिससे आपको पूरी जानकारी अच्छे से समझ आ सके तो चलिए बिना किसी देरी के शुरू करते हैं।

Train का अविष्कार किसने किया

ट्रैन जिसका इस्तेमाल एक स्थान से दूसरे स्थान तक सफर करने और माल ले जाने के लिए किया जाता हैं। अगर बात करे इसके अविष्कार के बारे में तो Train का अविष्कार Richard Trevithick ने की थी जो पेशे से एक इंजीनियर थे और ये यूनाइटेड किंगडम के रहने वाले थे।

Richard Trevithick का जन्म 13 अप्रैल 1771 में हुआ था और यह एक ब्रिटिश इंजीनियर थे। इन्होने एक उच्च भाप इंजन का भी विकास किया था साथ ही साथ इन्होने खनन सलाहकार के रूप में भी काम किया था।

और अपने पुरे करियर के दौरान इन्हे बहुत सारे उतार चढ़ाव देखने को मिले थे। अंत में 22 अप्रैल 1833 में 62 वर्ष की आयु में इनकी मृत्यु हो गयी।

Train का अविष्कार कब हुआ

अब तक आपने जान लिया की Train का अविष्कार किसने किया लेकिन यह अविष्कार कैसे हुआ और कब किया गया इसकी बात करे तो सं 1804 में Richard Trevithick ने ट्रैन का अविष्कार किया था।

21 फरवरी 1804 के दिन Richard ने पहली बार भाप के इंजिन से ट्रैन को खींचा था लेकिन कुछ कारणो की वजह से या कुछ खामियों की वजह से यह अविष्कार इतना सफल नहीं हो पाया था।

लेकिन अब अगर बात करे पहली सफल Train का अविष्कार कैसे हुआ तो आपको बता दे Richard के इस अविष्कार के बाद बहुत से वैज्ञानिको को ट्रैन बनाने के बारे में एक आईडिया मिल गया और उसके बाद बहुत से वैज्ञानिक इस विषय पर काम करने लगे।

और उसके बाद 27 सितम्बर 1825 में George Stephenson द्वारा विश्व की पहली सफल ट्रैन बनाई गयी और इस ट्रैन की स्पीड 24 किलोमीटर प्रति घंटा थी। George Stephenson भी पेशे से एक ब्रिटिश इंजीनियर थे और इन्होने अपने पहले सफल ट्रैन का नाम लोकोमोशन रखा था। इस ट्रैन में 450 लोगो ने सफर किया था।

भारत में Train का अविष्कार कब हुआ

भारत में पहली ट्रैन 16 अप्रैल 1853 में अंग्रेजो द्वारा चलाई गयी थी। यह ट्रैन मुंबई से थाने के बीच चलाई गयी थी। इस प्रकार आप देख सकते हैं की भारत में रेल का इतिहास काफी पुराना हैं।

लेकिन इतना पुराना इतिहास होने के बावजूद भारत में रेल का राष्ट्रीयकरण आजादी के बाद सन 1951 में हुआ था और वर्तमान में भारत में ट्रैन का नेटवर्क इतना बड़ा हो चूका इसकी गिनती दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्को में की जाती हैं।

बुलेट ट्रैन का अविष्कार किसने किया

बुलेट ट्रैन का अविष्कार जापान के चीफ इंजीनियर हाइडो शीमा ने सन 1964 में किया था। हाइडो शीमा ने प्लेन की तरह उड़ान भरने वाली ट्रैन का सपना देखा था और उसे साकार करके दिखाया।

इस ट्रैन का असली नाम शिंकासेन हैं लेकिन चूकी यह दिखने में और स्पीड में बुलेट की तरह हैं इसलिए इसका नाम बुलेट ट्रैन पड़ गया।

Train से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण और रोचक तथ्य

आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा शेयर की गयी अब तक की जानकारी पसंद आयी होगी और अब हम आपको आगे ट्रैन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण और रोचक तथ्यों के बारे में जानकरी देने वाले हैं।

  • दुनिया का पहला रेलवे ब्रिज Skerne Bridge हैं जो इंग्लैंड के डार्लिंगटन शहर में स्थित हैं।
  • दुनिया की सबसे तेज़ रफ़्तार वाली ट्रैन शंघाई मेग्लेव हैं जिसकी स्पीड 431 Km/h हैं।
  • यह ट्रैन चीन के शंघाई शहर में चलती हैं।
  • दुनिया का सबसे लम्बा रेल नेटवर्क संयुक्त राज्य अमेरिका का रेल नेटवर्क हैं।
  • दुनिया का सबसे लम्बा रेलवे स्टेशन उत्तरप्रदेश का गोरखपुर स्टेशन हैं। इसकी लम्बाई 4430 फ़ीट हैं।
  • वन्दे भारत एक्सप्रेस भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रैन हैं जिसकी अधिकतम रफ़्तार 180Km/h हैं।
  • भारत की सबसे लम्बी दुरी तय करने वाली ट्रैन विवेक एक्सप्रेस हैं। यह ट्रैन असम के डिब्रूगढ़ से लेकर तमिलनाडु के कन्याकुमारी तक चलती हैं। और यह लगभग 4286 km की दुरी तय करती हैं।
  • भारत का रेल नेटवर्क दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क हैं।
  • यीवू मेड्रिड रेल लाइन दुनिया की सबसे लम्बी रेल लाइन हैं इसकी लम्बाई 13000 km हैं।
  • गोथार्ड टनल दुनिया का सबसे लम्बा रेलवे टनल हैं जो स्विटज़रलैंड में स्थित हैं।

तो दोस्तों यह थी ट्रैन से सम्बंधित कुछ रोचक जानकारी जो आपको जरूर पसंद आयी होगी और आशा करते हैं आपको हमारी यह पूरी पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी और हमारे द्वारा शेयर की गयी जानकारी आपके लिए हेल्पफुल साबित हुई होगी।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट Train का अविष्कार किसने किया पसंद आयी हैं तो इसे अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा दोस्तों के साथ शेयर करे। जिससे उन्हें भी इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में पता चल सके।

साथ ही साथ अगर आपको हमारी इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी Doubts हैं तो हमे कमेंट करके जरूर बताये।

नमस्कार, दोस्तों मैं Techgyanhindi.com पर Content लिखता हूँ। आपको हमारा Content पसंद आ रहा हो तो Comment करके जरूर बताएं।

Leave a Comment