URL क्या है और कैसे काम करता है- URL Full Form in Hindi

अगर आप इंटरनेट का उपयोग करते है तो URL के बारे में जरूर सुना होगा। और आपके मन में इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने का विचार जरूर आया होगा।

जैसे यूआरएल क्या है? (What is Url in Hindi), यूआरएल का फुल फॉर्म क्या होता है? (Url Full Form in Hindi), यूआरएल के प्रकार और यूआरएल कैसे काम करता है।

इसके बारे में पूरी जानकारी होना इसलिए भी जरुरी है। क्योंकि जब हम किसी वेबसाइट पर जाने की कोशिश करते है। तो उसके लिए हमे उस वेबसाइट या वेबपेज के यूआरएल की जरुरत होती है।

तो आज की इस पोस्ट में आपको यूआरएल से जुड़ी सारी जानकारी देने वाला हूँ। जिससे आपको पता चल सके की आखिर यूआरएल क्या होता है।

URL क्या है- What is Url in Hindi

URL इंटरनेट पर उपलब्ध किसी वेबसाइट या Webpages का एड्रेस या पता होता है। जिससे हम उस वेबसाइट पर जा सकते है। इंटरनेट पर प्रत्येक वेबसाइट का एक यूनिक URL होता है।

जैसे गूगल का यूआरएल https://www.google.com/ है। अगर हमे गूगल पर जाना है तो इस यूआरएल को किसी भी ब्राउज़र के सर्च बार में सर्च करके जा सकते है।

यूआरएल के भाग- Parts Of Url in Hindi

किसी भी यूआरएल के चार भाग होते है। जो की निम्नलिखित है

Protocol (HTTP):- किसी कंप्यूटर नेटवर्क के किन्ही दो नोड के मध्य डेटा संचरण करने की प्रक्रिया के संपन्न होने के नियम एक विधियों के समूह को प्रोटोकॉल कहते है।

एक आसान भाषा में कहा जाये तो इंटरनेट पर डाटा Transfer करने के लिए प्रोटोकॉल का उपयोग किया जाता है।

Server Name (WWW):- वर्ल्ड वाइड वेब यूआरएल का दूसरा भाग होता है। प्रत्येक वेबसाइट का डाटा एक वेब सर्वर पर Store होता है। और प्रत्येक वेब सर्वर WWW से कनेक्टेड होता है।

File Name (Domain Name):– यह यूआरएल का तीसरा भाग होता है। इसमें सर्वर पर स्टोर फाइल का नाम बताया जाता है। जिसे Access कर Clint मशीन तक लाना होता है। जैसे- गूगल के यूआरएल में Google डोमेन नाम है।

File Path (Domain Extension):– यह दर्शाता है की वेबसाइट किस प्रकार की है। जैसे- Techgyanhindi.com में .com Extension है।

URL Full Form in Hindi

Url ka Full form:- Uniform Resource locator

यूआरएल का अविष्कार किसने किया

यूआरएल क्या है? (What is Url in Hindi) और Url Full Form in Hindi तो आप समझ गए होंगे। अब आपके मन में सवाल आ रहा होगा की यूआरएल का अविष्कार किसने किया। तो इसके बारे में भी जान लेते है।

यूनिवर्स रिसोर्स लोकेटर का अविष्कार टीम बेर्नेर्स ली ने 1994 में किया था। ली ने Http, Html और URL का अविष्कार एक साथ किया था।

यूआरएल के प्रकार- Types of Url in Hindi

Url मुख्य तौर से तीन प्रकार के होते है।

Massy Url

ये यूआरएल कंप्यूटर द्वारा बनाये जाते है। इनमे बहुत ही अधिक Number और Letter का उपयोग होता है। इनमे एक ही Domain Name के लिए अलग अलग वेब पेज बनाये जाते है।

Dynamic Url

ये Url किसी data query के अंतिम रिजल्ट होते है। ये Content Output प्रदान करते है। इन यूआरएल में +,=,%,$,&,? आदि Character आते है।

इनका उपयोग Shopping और Travelling जैसी वेबसाइट में होता है। जहाँ यूजर बार-बार अपनी Query बदलते रहते है।

Static Url

इनके नाम से ही आप समझ सकते है की ये Static होते है। कभी बदलते नहीं है। चाहे यूजर द्वारा कुछ भी Request की जाये। इन यूआरएल को Webpage’s Html द्वारा हार्ड वायर किया गया होता है।

Url Shortning क्या है

इंटरनेट पर आपने कई सारी ऐसी वेबसाइट या वेबपेजेस देखे होंगे। जिनका यूआरएल बहुत ही लम्बे होते है। जिनको शेयर करना काफी मुश्किल होता है।

ऐसे में हम इन URL को शेयर करने के लिए Short या छोटा करते है। इसे ही Url शोर्टनिंग कहा जाता है। छोटे यूआरएल को हम कही भी शेयर कर सकते है।

इंटरनेट पर कई सारी ऐसी वेबसाइट है। जहाँ से आप अपने Long यूआरएल को Short कर सकते है। जैसे- BITLY, GOO.GL, TINYURL.COM, OW.LY, IS.GD आदि कई सारी वेबसाइट है।

यहाँ तक की कई सारी वेबसाइट ऐसी है। जहाँ आप अपने Short link को शेयर करके अर्निंग भी कर सकते है। जैसे- shorte.ST, Adf.LY, Ouo.IO, ShrinkMe.IO आदि।

Secure Urls क्या होते है

url full form in english
what is url
url meaning
url kaise banaye
url full form in gujarati
url example
google ka url kya hai
www in hindi
URL क्या है ?

जब किसी Website के Url की शुरुआत https:// से होती है। तो वह यूआरएल Secure Url होता है। और इसे SSL Sertificate भी कहा जाता है।

HTTPS एक प्रोटोकॉल है, जो ब्राउज़रो और Website Server के मध्य सुरक्षित रूप से डाटा पास करने का काम करता है।

Secure Website पर अगर हम अपनी कोई Personal Detail भी डालते है। तो वह Transmit होने से पहले Encrypt हो जाता है। जिसे Hack करना किसी भी Hacker के लिए काफी मुश्किल होता है।

इसलिए अगर आप किसी वेबसाइट पर अपनी Personal Information या Bank Detail डालते है। तो इससे पहले उसके Url को जरूर Check कर ले।

Url कैसे काम करता है

इंटरनेट पर उपलब्ध प्रत्येक Website का एक यूनिक IP Address (Internet Protocol) होता है। जो की Numerical होता है।

जब हम किसी भी URL को Browser में Search करते है। तो Browser उस Url को DNS की मदद से IP Address में बदल देता है। और उस वेबसाइट के Server पर पहुँच जाता है। और वहाँ से सुचना हमे Provide करवाता है।

लेकिन IP Address याद रखना बहुत ही मुश्किल होने के कारण DNS सिस्टम का उपयोग किया गया। जिससे हम किसी भी वेबसाइट तक बहुत ही आसानी से पहुँच सकते है।

जैसे- Google.com, yahoo.com, Bing.com, Amazone.com, Flipkart.com का Ip Address 216.58.194.206., 98.138.219.232., 13.107.21.200., 87.238.85.156. ,199.59.242.153. है।

तो आप सोच सकते है। की इन IP Addresses को याद रखना कितना मुश्किल होता है। आप चाहे तो IP एड्रेस को Browser में सर्च करके वेबसाइट तक पहुँच सकते है।

Conclusion

दोस्तों मुझे पूरी उम्मीद है की Url क्या है? (What is Url in Hindi) Url Full Form in Hindi और यूआरएल कैसे काम करता है। आपको समझ में आ गया होगा।

अगर फिर भी आपके मन में इससे जुड़ा कोई सवाल है तो आप हमे कमेंट करके जरूर बताये। जिससे हम आपकी मदद कर सके।

अगर पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे। क्योंकि आज हर इंटरनेट यूजर कही न कही यूआरएल का उपयोग करता ही है। तो Url Full Form in Hindi जानना भी जरुरी है।

url full form in hindi

मेरा नाम Ram Gadri है। मैं इस Blog का Founder और Content writer हूँ। हमारा इस Blog को बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषी लोगों को इंटरनेट से जुड़ी जानकारी प्रदान करवाना है। यहाँ आपको शिक्षा, तकनिकी, कंप्यूटर और मेक मनी से जुड़ी हर तरह की जानकारी मिलने वाली है।

Leave a comment