विश्व में सबसे पहले सूर्योदय कहाँ होता है

पृथ्वी पर दिन और रात पृथ्वी के अपनी धुरी पर घूमने के कारण होते हैं, जबकि कई लोग ऐसा समझते हैं की सूर्य पृथ्वी के चक्कर लगाता हैं लेकिन यह बिलकुल ही गलत बात हैं। क्या आपको पता हैं विश्व में सबसे पहले सूर्योदय कहाँ होता हैं या विश्व में सबसे पहले सूरज कहाँ निकलता हैं।

क्योंकि सूर्य पूर्व दिशा में उदय होता हैं यह तो सबको पता होता हैं लेकिन धरती पर सबसे पहले सूरज की किरणें कहाँ पड़ती हैं इसके बारे में बहुत ही कम लोगों को पता होता हैं अगर आपको भी इसके बारे में जानकारी नहीं हैं तो हमारा यह आर्टिकल आपके लिए काफी महत्वपूर्ण हैं।

इसमें हम आपको सबसे पहले सूर्य उदय कहाँ होता हैं और वहां पहले सूर्योदय क्यों होता हैं इसके साथ ही उगते हुए सूरज का देश किसे माना जाता हैं आदि से संबधित जानकारी विस्तार से देने वाले हैं।

विश्व में सबसे पहले सूर्योदय कहाँ होता है

दोस्तों उगते हुए सूरज का नजारा देखना हमारे लिए मानसिक तथा शारीरिक रूप से बहुत ही फायदेमंद होता हैं। क्योंकि प्रातः सूर्योदय के समय वातावरण में बहुत ही ताजा हवा का चलन मिलता हैं जो हमारे मन तथा तन दोनों को सुकून प्रदान करता हैं।

इसके साथ ही कई सारे लोग सूर्योदय के समय सूरज भगवान को जल चढ़ाते हैं जिससे उनका पूरा दिन आनंद से भरा निकलता हैं। लेकिन आज के समय में बहुत ही कम लोग सूर्योदय का नजारा देखते हैं। तो चलिए दोस्तों अब हम अपने मुख्य टॉपिक पर बात करते हैं।

विश्व में सबसे पहले सूर्य कहाँ उदय होता हैं

दोस्तों पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती रहती हैं। लेकिन मनुष्यों ने अक्षांश और देशांतर रेखाओं के आधार पर धरती को विभाजित कर दिया हैं, इसके साथ ही दिशा के आधार पर भी उत्तर, दक्षिण और पूर्व, पश्चिम में विभाजित कर दिया हैं।

ऐसे में सभी देशों के GMT (Greenwich Mean Time) को मान्यता देने से सबसे पहले सूरज New Zealand देश में निकलता हैं। और New zealand को ही सूर्योदय की धरती माना जाता हैं। क्योंकि पृथ्वी पर सबसे पहले सूरज की किरणें न्यूज़ीलैण्ड देश के अंदर ही पड़ती हैं।

लेकिन कई सारे लोग जापान को सूर्योदय की धरती मानते हैं तो इसका कारण कुछ अलग हैं क्योंकी नए टाइम ज़ोन के अनुसार New Zealand का टाइम GMT+13 हैं वहीँ जापान का समय GMT+9 हैं, ऐसे में जब न्यूज़ीलैण्ड में सुबह के 6 बज रहे होते हैं तब जापान में रात के 2 बज रहे होते हैं।

इससे भी आप समझ सकते हैं की सबसे पहले सूर्योदय New Zealand में ही होता हैं। तो चलिए दोस्तों अब हम जापान को सूर्योदय का देश क्यों कहा जाता हैं जबकि असली में सूर्योदय का देश न्यूज़ीलैण्ड हैं। इसके पीछे का कारण जान लेते हैं

जापान को सूर्योदय का देश क्यों कहाँ जाता हैं

यह प्रश्न हर किसी के दिमाग में उठना लाजमी हैं क्योंकि जापान में सूरज उगता ही नहीं हैं तो हम कैसे मान ले तो इसके पीछे की स्टोरी कुछ इस प्रकार हैं। जापानी में देश को निहोन (निप्पॉन) कहा जाता हैं, निहोन और जापान दोनों ही शब्दों की उत्पति एक ही शब्द से हुई हैं, जिसका शाब्दिक अर्थ जहाँ सूरज उगता हैं होता हैं।

इतिहासकरों का मानना हैं की 13 वीं शताब्दी में खोजकर्ता मार्को पोलो ने जापान को पश्चिमी दुनिया से परिचित करवाया था। जबकि वह कभी जापान गया ही नहीं था, दक्षिण चीन से ही उसने इसके बारे में बताया था, इसलिए दक्षिणी चीन के लोग इसे जु-पंग कहते हैं, जिसका मतलब जहाँ सूर्य की उत्पति होती से हैं। इसी से लोगों के मन में यह भ्रान्ति हैं की सबसे पहले सूर्य जापान में उदय होता हैं।

FAQs

दुनियाँ में सबसे पहले सूरज कहाँ निकलता हैं?

दुनिया में सबसे पहले सूरज New Zealand में निकलता हैं।

उगते हुए सूरज की भूमि कौनसा देश हैं?

सूर्य सबसे पहले New Zealand में निकलता हैं ऐसे में उगते हुए सूरज की भूमि न्यूज़ीलैण्ड देश ही हैं।

सबसे पहले सूर्योदय किस देश में होता हैं?

सबसे पहले सूर्योदय न्यूज़ीलैण्ड देश में होता हैं।

विश्व में सबसे पहले सूर्यास्त कहां होता है

विश्व में सबसे पहले सूर्यास्त किरिबास देश के कॅरोलीन द्वीप समूह के लाँग आइलेट में होता है।

Conclusion

दोस्तों उम्मीद करता हूँ अब आपको समझ में आ गया होगा की दुनिया विश्व में सबसे पहले सूर्योदय कहाँ होता है और और जापान को सूर्योदय की धरती क्यों कहा जाता था। जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।

Read More Articles:-
साल का सबसे बड़ा दिन कौनसा होता हैं
जन्म तारीख से अपनी राशि कैसे पता करें
भारत की खोज किसने की और कब की थी
पोस्ट को शेयर करें

मेरा नाम Ram Gadri है। मैं इस Blog का Founder और Content writer हूँ। हमारा इस Blog को बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषी लोगों को इंटरनेट से जुड़ी जानकारी प्रदान करवाना है। यहाँ आपको शिक्षा, तकनिकी, कंप्यूटर और मेक मनी से जुड़ी हर तरह की जानकारी अपनी मातृ भाषा में मिलने वाली है।

Leave a Comment